Shighrapatan ka ilaj शीघ्र पतन का उपचार

Shighrapatan ka ilaj– सहवास के समय पुरुष वीर्य के शीघ्र निकल जाने को शीघ्र पतन कहते है। अक्सर ये देखा गया है की पुरुष अपनी भावनाओ की वजह से जल्दी स्खलित हो जाते हैं। जल्दी स्खलित होने के ओर भी बहुत से कारण होते हैं। नादानी में की गई कुछ गलतियाँ गुप्तांग की नसों को कमजोर कर देती हैं।

ये समस्या तब और भी परेशान करने लगती है जब पुरुष किसी महिला को संतुष्ट नही कर पाता है। मन ही मन में पुरुष हीन भावना का शिकार होने लगता है।

शीघ्रपतन को पुरुष हमेशा अपनी मर्दानगी से जोडकर देखता है। उसकी मर्दानगी पर कोई शक ना करे इसीलिए वो इस समस्या को सबसे छुपा कर रखता है। आज हम इसी बारे में बात करेंगे और इसका घरेलू इलाज बताएंगे। नीचे लिखे कुछ देसी नुस्खों से शीघ्रपतन की समस्या दूर होगी और आपका वैवाहिक जीवन सुखमय होगा।

Shighrapatan ka ilaj

शीघ्र पतन का उपचार

1 – इमली के बीजों को पानी में भिगोकर रख दें फिर उसका छिलका उतार लें। छिलका उतारने के बाद इमली के इन बीजों को छाया मैं सूखा दें। इसके बाद इन्हे कूंट-छानकर चूर्ण बना लें और इसमें समान भाग में मिश्री मिलाकर चौथाई चम्मच सुबह – शाम दो बार दूध के साथ फंकी लें। पचास दिन के सेवन से वीर्य गाढ़ा होगा और शीघ्रपतन दूर होगा।

2 – असली वंश लोचन और सत्व गिलोय बराबर मात्रा में लेकर कूंट-छानकर कपड़छन कर लें। प्रतिदिन 2 ग्राम की मात्रा में शहद के साथ लें।

3 – इमली के बीजों को कूंट-छानकर कपड़छन कर लें तथा दुगनी मात्रा में पुराना गुड़ मिलाकर पीसकर उसका एक गोला बना लें इसमें से चने के बराबर की गोलियाँ बना लें। सहवास से 2 घंटे पहले दो गोली खा लें। वीर्य स्खलित न होने पर नींबू का रस पियें।

4 – तुलसी के बीज अथवा जड़ के चूर्ण को 2 ग्राम की मात्रा में पान में रखकर खाने से शीघ्रपतन दूर होता है और देर तक रूकावट होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker