Vastu shastra ke anusar kis Disha me Sona Chahiye

Vastu shastra ke anusar kis disha me sona chahiye. सोने की सही दिशा जानने से पहले आपको इसके पीछे की वजह जरुर जान लेनी चाहिए. 

क्या आपने कभी सोचा है की आपका दिल शारीर के इतने उपरी हिस्से में क्यों है. दिल का उपरी हिस्से में होने की एक खास वजह है. जैसा की आप जानते होंगे गुरुत्वाकर्षण बल सब कुछ अपनी तरफ खीचता है.

हमारा दिल जब ब्लड को पंप करता है तो ब्लड नीचे की तरफ आसानी से चला जाता है. वहीँ दूसरी तरफ ब्लड को उपरी हिस्से में पहुचाने के लिए खासी मस्सकत करनी पड़ती है. यही वजह है की दिल को कुदरत ने शारीर के तीन-चौथाई ऊपर की ओर बनाया है.

उपर की ओर जाने वाली ज्यादातर नसें बहुत ही पतली होती हैं. पतली नसें होने के कारण इनमे ब्लड एक सीमित मात्रा में ही जाता है. सीमित मात्रा से अधिक एक बूंद भी अगर ज्यादा जाती है, तो मस्तिस्क में रक्तस्राव होने का खतरा बन जाता है.

अधिकतर लोगों के मस्तिस्क में रक्तस्राव होता है, मगर इसके बहुत ही कम मात्रा में होने की वजह से ज्यादा बड़े नुकसान नही होते हैं. मस्तिस्क में बहुत कम मात्रा में रक्तस्राव होने के चलते आप सुस्त हो सकते हैं. आपकी बुद्धिमत्ता का स्तर भी कम हो सकता है. 

आपने पृथ्वी की चुंबकीय क्षेत्रों (मैगनेटिक फील्ड) के बारे में जरुर सुना होगा. ये गुरुत्वाकर्षण बल के साथ मिलकर हमारे ब्लड के बहाव पर दबाव बनती है क्योकि आयरन (लौह तत्व) की बहुत ही छोटी सी मात्रा हमारे ब्लड में होती है. सोने के समय हम 7-8 घंटे एक ही दिशा में सर रखकर सोते है इसीलिए इस समय ज्यादा दबाव बनता है, जो शारीर के लिए नुकसानदेय होता है.

Kis Disha me Sona Chahiye किस दिशा में सोना चाहिए

उत्तर दिशा

उत्तर दिशा में सर रख कर बिलकुल नहीं सोना चाहिए. ऐसा करने पर पृथ्वी का चुंबकीय खिंचाव आपके मस्तिस्क पर दबाव डालेगा, जिससे आपको रक्तस्राव, लाखवा मरने, स्ट्रोक, बेचनी या नींद अचानक खुलने जैसी परेशानी हो सकती हैं. ऐसा नही है की ये सब एक दिन सोने पर ही होने लगेगा. ये सब आपके लम्बे समय से उत्तर दिशा में सोते रहने के बाद होने लगेगा. ये आपके शारीर पर निर्भर करता है की वो कितना झेल सकता है. एक समय जरुर आएगा जब आपको उत्तर दिशा में सोने से परेशानी होने लगेगी इसीलिए आज से ही इसे बदल लें.

 

पूर्व दिशा

पूर्व दिशा में सर रख कर सोना सबसे अच्छा  बताया जाता है. हमेशा सोते समय पूर्व दिशा की ओर सर रखें.

 

पूर्वोत्तर

पूर्वोत्तर दिशा में सर रख कर सोना ठीक- ठाक माना गया है.

 

पश्चिम दिशा

पश्चिम दिशा में सर रख कर सोना भी सही होता है.

 

दक्षिण दिशा

कोई विकल्प ना होने पर आप दक्षिण दिशा की तरफ भी सर रख कर सो सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *