क्या आप लेबल पढ़ कर खाना चुनते हैं

क्या आप लेबल पढ़ कर खाना चुनते हैं ? क्या आपके खाने में सिर्फ Iron, Calcium और Magnesium का होना ही, पोषक आहार का सही मापदंड है ?

आजकल हर जगह पोषक तत्व वाले भोजन को लेकर लोगों का अपना अलग-अलग तर्क है. लोगों में एक पागलपन सा बनता जा रहा है. वो बस ये देखते हैं की भोजन में इतना पोषण है, इसमे इतना फैट है, इसमे इतना फाइबर, इसमे इतना विटामिन और ना जाने क्या-क्या. ये सब शायद अमेरिका से शुरु हुआ था और अब सब जगह फैल गया है.

बहुत से बिजनेसमैन ने तो इसे अपना प्रोफेशन ही बना लिया. आपको बंद पैकेट पर अंदर की डिटेल्स लिख कर दी जाती है. अब सवाल ये है की क्या वाकई आपको अलग से ये सब पढना पड़ेगा. क्या कोई ओर आपको बताएगा की आपको कितनी जरुरत है. क्या एक लेबल पढ़कर ये पता चल जाएगा की इतनी मात्रा में ये खाना है. आइए जानते हैं.

ये है सच्चाई

सच तो ये है की आप जितना साधारण खाएंगे उतना ठीक रहेंगे. हमारे पूर्वजों के समय से ही साधारण भोजन खाया जा रहा है. ये सभी लगभग 100 वर्ष या उससे भी ज्यादा की उम्र तक जीवित रहें हैं. आज कल जितने भी पैक्ड प्रोडक्ट्स बाजार में मिलते हैं, उन सभी में मिलावट है. उन्हें लम्बे समय तक इस्तमाल करने के लिए उसमे कुछ मात्रा में केमिकल मिलाया जाता है.

अधिकतर खाने के सामान सीधे किसानों से खरीदें. इससे उन्हें भी फायदा होगा और आपको भी बिना मिलावट का अन्न मिल जाएगा. आप अपने घर पर भी कुछ जरुरत का सामान बना सकते हैं. अपने घर के आस पास कोई छोटी सी जगह में फल, सब्जी, अनाज अदि उगा सकते हैं.

इसपर भी दें ध्यान

खाना तो सभी खाते हैं फिर कोई मोटा और पतला क्यों है. कोई शक्तिशाली और कोई दुर्बल क्यों है. कोई ठीक रहता है तो कोई बार-बार बीमार क्यों पड़ जाता है. असल में हम सभी की पाचन शक्ति अलग है. खाने के लेबल को देखकर चयन ना करें. हमेशा इस बात पर ध्यान दें की कौनसा खाना आपका शारीर जल्दी पचा लेता है. उस खाने से दूर रहें जिसे खाने के बाद सारा दिन पेट में अजीब सा महसूस होता है.

आपने देखा होगा जानवर कुछ चीजें नहीं खाते हैं. उनमे उनकी पाचन शक्ति के हिसाब से समझ होती है. वो बहुत कम बीमार पड़ते हैं. आप कभी ये ना सोंचे की इस प्रोडक्ट के लेबल पर ये लिखा है और आपको ये इतने ग्राम की मात्रा में मिल जाएगा. आप बस अपने पाचन शक्ति की ही सुनिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *