Connect with us

अरुचि , मन्दाग्नि ( भूख ना लगना ) | bhook na lagne ka ilaj

bhook na lagne ka ilaj

Gharelu Nuskhe

अरुचि , मन्दाग्नि ( भूख ना लगना ) | bhook na lagne ka ilaj

Bhook na lagne ka ilaj वायु दोषों के कुपित होने पर शोक , भय , क्रोध अथवा मन को अच्छा न लगने के कारणों से अरुचि रोग उत्पन्न होता है।
सामान्यतः भोजन अथवा किसी भी खाने-पीने की चीज के प्रति अरुचि होना ही इसका मुख्य लक्षण है।

उपचार (bhook na lagne ka ilaj) :-

  • अदरक को छीलकर बारीक कतर लें तथा उसमें थोड़ा सा सैंधा नमक और नींबू का रस मिला दें। खाना खाने से आधे घंटे पहले इसे चबा-चबाकर खायें। 5-7 दिन लगातार खाने से हाजमा ठीक होगा और खुलकर भूख लगेगी। 
  • नींबू का रस और चीनी बराबर मात्रा में लेकर आग पर गरम कर चासनी बना लें। एक चम्मच की मात्रा में पीने से भूख में रुचि बढ़ती है ( शरबत की तरह पीने से शरीर की गर्मी दूर होती है। )
  • नींबू के टुकड़े कर अमृतवान या कांच के जार में भर दें और नमक और थोड़ी चीनी डालकर , थोड़ी काली मिर्च व सफेद जीरा भी पीसकर मिला दें 10-15 दिन खायें। ( इसके इसके खाने से भूख की कमी , अरुचि ठीक होती है और मुँह का स्वाद अच्छा होता है।  )
  • गाय के उत्तम दही में भुनी राई , भुना जीरा , भुनी सौंठ तथा सैंधा नमक मिलाकर उसे मलमल के कपड़े में छान लें , फिर उसमें उतना ही पानी मिला लें जिससे वह मट्‍ठा जैसा बन जाए। इस मट्‍ठे के खाने से अरुचि दूर होकर जठराग्नि तेज होती है।
पढ़े :  गुहेरी हटाने के घरेलू नुस्खे Home remedies for Guheri Funsi
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in Gharelu Nuskhe

To Top