Connect with us

बिहार : 38 में से 37 जिलों का पानी पीने लायक नही, लोग हुए परेशान

news

बिहार : 38 में से 37 जिलों का पानी पीने लायक नही, लोग हुए परेशान

आज हम आपको बिहार राज्य के बारे में बताएंगे कि कैसे बिहार में एक रिपोर्ट आने के बाद हंगामा मच गया है । तो आइए बताते है आपको –

बिहार से पीने के पानी को लेकर एक बहुत बड़ी खनर आ रही है, बता दें आपको कि बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने अपने एक भाषण में यह जानकारी दी है कि बिहार के 38 में से 37 जिलों का पानी पीने लायक नहीं है इनमें फ्लोराइड, आर्सेनिक और आयरन का संक्रमण है। सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद राज्य के 31 हजार वार्डों में गुणवत्तापूर्ण पेयजल की आपूर्ति आज भी चुनौती बनी हुई है वे रविवार को एनआइटी पटना के सभागार में इंडियन वाटर वर्क्स एसोसियेशन के 52वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे ।

उप मुख्यमंत्री मोदी की यह स्वीकारोक्ति बता रही है कि राज्य की बड़ी आबादी आज भी संक्रमित पेयजल का उपभोग करने की वजह से गंभीर खतरे की जद में है इसके साथ ही संक्रमण का दायरा बढ़ा है, क्योंकि महज कुछ साल पहले तक राज्य के 28 जिले ही पेयजल के संक्रमण के दायरे में थे ।

पढ़े :  OnePlus 7T, 7T Pro और 7 Pro पर मिल रहा डिस्काउंट, जानें क्या है बेस्ट डील

भूजल में आर्सेनिक के संक्रमण की वजह से बिहार में लगातार कैंसर रोगियों की संख्या बढ़ रही है ऐसा माना जाता है कि आर्सेनिक संक्रमित क्षेत्र में हर दस हजार में से एक व्यक्ति के कैंसर के शिकार होने का खतरा रहता है बिहार में पिछले कुछ सालों में गॉल ब्लाडर के कैंसर के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है, इसके पीछे भी आर्सेनिक को एक बड़ा कारण माना जा रहा है भारत और यूके के एक साझा शोध में पिछले साल यह पता चला है कि आर्सेनिक संक्रमित क्षेत्रों में उपजे गेहूं से भी कैंसर का खतरा रहता है ।

Continue Reading
You may also like...

More in news

To Top