Connect with us

नागरिकता कानून पर पहली बार गौतम गंभीर ने तोड़ा मौन, बोले ये बिल एंटी मुस्लिम, ऐसा लोग

देश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार की ओर से लाए गए नागरिकता कानून ने विवाद पैदा कर दिया है। ये कानून संसद से पास हो गया है लेकिन इसका विरोध थम नहीं रहा है। पहले इसका विरोध असम के लोगों ने किया तो उसके बाद बंगाल में विरोध होने लगा। विरोध की ये आग दिल्ली और यूपी तक पहुंच गई। इस कानून को लेकर लगतार नेताओं के बयान भी सामनने आ रहे हैं। पहली बार भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने भी इस कानून पर चुप्पी तोड़ दी। उन्होंने ये बयान दिया है।

कानून के विरोध में राष्ट्रपति के पास पहुंच गए विपक्षी नेता

नागरिकता कानून का विपक्षी दल पुरजोर विरोध कर रहे हैं। मंगलवार को सोनिया गांधी समेत तमाम नेता इस कानून के विरोध में राष्ट्रपति के पास पहुंच गए। इस दौरान नेताओं ने राष्ट्रपति से कोई ठोस कदम उठाने को कहा। सोनिया गांधी ने कहा कि कानून का विरोध लगातार बढ़ता जा रहा है। वहीं दूसरी ओर दिल्ली के जामिया नगर के बाद जाफराबाद में भी कानून का विरोध शुरू हो गया है।

जानें क्या बोले भाजपा सांसद गौतम गंभीर

पहली बार भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने भी इस कानून पर चुप्पी तोड़ दी है। आजतक चैनल के कार्यक्रम में गौतम गंभीर बोले कि ये बिल एंटी मुस्लिम है, ऐसा लोग फैला रहे हैं। हालांकि ये बात पूरी तरह से गलत है। गंभीर बोले ये कानून नागरिकता को देने के लिए लाया गया है, किसी की नागरिकता को लेने के लिए नहीं। वहीं जामिया विवाद पर वो बोले कि शांतिपूर्ण विरोध करें तो ये सरकार की जिम्मेदारी है कि उस मुद्दे का समाधान निकाले। वहीं गंभीर बोले कि अगर आप पत्थर फेकेंगे तो पुलिस कार्रवाई करेगी।

To Top